गोमती मित्रों ने कर याद विभाजन की विभीषिका को,कहा भुला नहीं सकते कभी उस दर्द को

0
16
Advertisement

रिपोर्ट प्रमोद यादव सुल्तानपुर।गोमती मित्र मंडल ने रविवार को हुए साप्ताहिक श्रमदान में १४ अगस्त १९४७ में देश के बंटवारे के रूप में जो दंश मिला है उसके दर्द को महसूस करते हुए कहा की उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता, संरक्षक रतन कसौधन एवं प्रदेश अध्यक्ष रूद्र प्रताप सिंह मदन ने कहा की एक तरफ आजादी की खुशी थी दूसरी तरफ बंटवारे का दु:ख,मीडिया प्रभारी रमेश माहेश्वरी ने कहा धर्म के आधार पर बंटवारे का ऐसा उदाहरण आज भी दुनिया में कोई नहीं मिलता,लाखों को अपनो से बिछड़ना पड़ा,लाखों विस्थापित हुए और अविश्वास की वह खाई आज तक बनी हुई है,श्रमदान के साथ-साथ पूरे धाम परिसर को तिरंगे से सजाते हुए संयुक्त सेवा समिति के तत्वाधान में लखनऊ में १५ अगस्त को होने वाले ऐतिहासिक रक्तदान की तैयारियों की भी समीक्षा की गयी,श्रमदान में मुख्य रूप से उपस्थित रहे रतन कसौधन,मुन्ना सोनी,राजेंद्र शर्मा,राजेश पाठक,अजय प्रताप सिंह,संत कुमार प्रधान,दिनकर सिंह,सेनजीत कसौंधन दाऊ जी,युवा मंडल अध्यक्ष अजय वर्मा,आलोक तिवारी,धर्मेंद्र वर्मा,महेश प्रताप,रुद्रा विश्वदीप रघुवंशी,जय नाथ प्रजापति,अर्जुन यादव,तेजस्व पांडे,विशाल पांडे ,आयुष,तुषार,अर्पित, प्रांजल,आभास आदि।।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here