शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए शिक्षाविदों को किया गया सम्मानित

Advertisement

वाणीश्री न्यूज़, पटना बिहार पब्लिक स्कूल एंड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन के बैनर तले अमलन बुक्स एंड स्टेशनरी की सहभागिता के साथ पटना गांधी मैदान स्थित होटल मौर्य के सभागार में “शिक्षा सम्मान समारोह-2021” का किया गया आयोजन । संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. डी. के. सिंह की अध्यक्षता में बिहार के सैंकड़ों शिक्षाविदों को शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए शिक्षा सम्मान से नवाजा गया। समारोह के आयोजन मे अमलन बुक्स के निदेशक श्री मनीष सिंह ने विशेष रुचि दिखाया। कार्यक्रम में बतौर उद्घाटनकर्ता महामहिम राज्यपाल सिक्किम श्री गंगा प्रसाद चौरसिया, मुख्य अतिथि श्री विजय कुमार सिन्हा अध्यक्ष बिहार विधान सभा, विशिष्ट अतिथि श्री नितिन नवीन पथ निर्माण मंत्री बिहार सरकार एवं प्रोफेसर केसी सिंहा कुलपति नालंदा विश्वविद्यालय की गरिमामई उपस्थिति रही।

प्लीजेन्ट् वैली स्कूल के छात्र-छात्राओं के द्वारा राष्ट्रीय गान के साथ अतिथियों का स्वागत किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन महामहिम राज्यपाल श्री गंगा प्रसाद, विजय कुमार सिन्हा अध्यक्ष बिहार विधान सभा, श्री नितिन नवीन पथ निर्माण मंत्री बिहार सरकार, प्रोफेसर के. सी. सिंहा कुलपति नालंदा विश्वविद्यालय, अध्यक्ष डॉ. डी. के. सिंह, उपाध्यक्ष डॉ. एस. एम. सोहेल, सचिव श्री प्रेम रंजन, डॉ. रमेश सिंह, विजय कुमार सिंह एवं अमलन बुक्स के निदेशक श्री आदित्य कुमार के द्वारा संयुक्त रुप से दीप प्रज्वलित कर किया गया। स्वागत भाषण के दौरान संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. डी. के. सिंह ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में अहम एवं उल्लेखनीय योगदान देने वाले शिक्षकों एवं शिक्षाविदों को प्रोत्साहित करने के लिए यह शिक्षा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया है। संगठन के लिए यह गर्व का क्षण है कि महामहिम राज्यपाल सिक्किम एवं बिहार के गणमान्य मंत्रीगण अपने कीमती वक्त के साथ यहां उपस्थित हुए हैं। महामहिम राज्यपाल श्री गंगा प्रसाद ने कहा कि बिहार ही नहीं पूरे देश में शिक्षा के क्षेत्र में गुणात्मक क्रांति लाने का कार्य निजी विद्यालयों ने किया है। मेरी शुभकामनाएं हैं कि यह संगठन इस प्रकार के सम्मान समारोह का आयोजन हमेशा करती रहे।

Advertisement

मुख्य अतिथि बिहार विधानसभा अध्यक्ष श्री विजय कुमार सिन्हा ने कहा की प्रोत्साहन की आवश्यकता शिक्षाविदों को भी होती है। संगठन की यह सराहनीय पहल है, जिन्होंने कोरोना की महामारी को भूलकर वापस उन्हें अपने जिम्मेवारियों का एहसास दिलाने के लिए बिहार के विभिन्न जिलों से शिक्षाविदों को चयनित कर सम्मानित करने का कार्य कर रही है। विशिष्ट अतिथि श्री नितिन नवीन ने कहा की आज यहां से सम्मानित होने के बाद जब शिक्षाविद अपने घर को जाएंगे, तो उन्हें इस बात का एहसास होगा कि उनका योगदान बिहार एवं देश की विकास के लिए कितना महत्वपूर्ण है। कुलपति नालंदा विश्वविद्यालय प्रो. केसी सिंहा ने कार्यक्रम के आयोजकों को धन्यवाद देते हुए कहा कि हमारे लिए यह गर्व का क्षण है कि यहां एक साथ सैकड़ों शिक्षाविदों के समक्ष उपस्थित होने का अवसर मिला है।

कार्यक्रम के दौरान उद्घोषण का कार्य सौरभ कुमार एवं उद्घोषिका सुश्री कौशिकी मिश्रा के द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। मंच संचालन का कार्य संगठन के सचिव श्री प्रेम रंजन के द्वारा किया गया। धन्यवाद ज्ञापन के दौरान संगठन के उपाध्यक्ष डॉ. एस. एम. सोहेल ने आए हुए अतिथियों एवं शिक्षाविदों को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि गुणात्मक शिक्षा ही निजी विद्यालयों की पहचान रही है। किसी भी परिस्थिति मे निजी विद्यालय इससे समझौता नहीं कर सकती है।

सम्मानित होने वाले शिक्षाविदों मे डॉ. रमेश सिंह, विजय कुमार सिंह, डॉ. बी. प्रियम, निशांत कुमार, रघुवंश कुमार, मनन कुमार सिन्हा, अजय गांधी, विनय कुमार सिन्हा, इं. राहुल रंजन, उदय कुमार सिंह, देवेंद्र सवर्ण, ललन कुमार सिंह, डॉ. पी. के. दर्शन, रामेश्वर सिंह, परशुराम सिंह, इं. अशोक कुमार, अरुण कुमार सिन्हा, जिलाध्यक्ष रोहतास संतोष कुमार, जिलाध्यक्ष जहानाबाद कृष्णा कुमार,जिलाध्यक्ष मधुबनी मंजूर आलम जिला अध्यक्ष दरभंगा एचएन कश्यप जिला अध्यक्ष बक्सर बीके मिश्रा, जिलाध्यक्ष अररिया सूर्य नारायण गुप्ता, जिलाध्यक्ष गया शैलेन्द्र कुमार, अरशद अहमद, सबीहा प्रवीण, सूरज सिन्हा, अनुज कुमार, डॉ. आर. पी. साहू, शंभू सहाय, चन्द्रभूषण मिश्रा, मनीष सिंह एवं अन्य के नाम शामिल हैं।

 

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here