आंगनवाड़ी सेविका सहायिका का मानदेय नही मिल रहा समय से, वहीं टीएचआर का आवंटन भी दिया जा रहा कम : सविता कुमारी

Advertisement

वाणीश्री न्यूज़, वैशाली। बिदुपुर प्रखंड के चक सिकंदर कल्याणपुर पंचायत अंतर्गत केंद्र संख्या 20,चकजैनव पर आंगनवाड़ी सेविका सविता कुमारी के द्वारा आंगनबाड़ी विकास समीति की बैठक कर टीएचआर का वितरण किया गया। जिसमें अखिल भारतीय आंगनवाड़ी कर्मचारी महासभा की प्रदेश महासचिव सविता कुमारी के द्वारा बताया गया कि सिर्फ बिदुपुर,वैशाली ही नहीं बल्कि पूरे बिहार में कई माह से आवंटन कम होने के कारण लाभार्थियों की संख्या बहुत कम कर दी गई है।जिसके कारण लाभार्थियों के बीच टीएचआर वितरण करने में भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। क्योंकि जो पहले से आंगनवाड़ी से टी एच आर के रूप में जो लाभान्वित हो रहे हैं वह लाभ छोड़ने को तैयार नहीं और नए सदस्य बढ़ते जा रहे हैं।

वहीं सरकार राशि कम करते जा रही हैं।ऐसे में टी एच आर के रुप में कच्चा राशन प्राप्त करने वाले लाभार्थियों की संख्या को कम करते हुए आंगनवाड़ी केंद्र पर पढ़ने वाले(गर्म पका भोजन खाने वाले) बच्चों की संख्या भी 50% कर दी गई है।क्या जिस आंगनवाड़ी केंद्र पर 20 से ज्यादा बच्चे उपस्थित रहते हैं वहां की सेविका बच्चों खाना नहीं खिलाएगी। अब आए दिन लाभार्थियों और सेविकाओं के बीच आनाकानी होती रहती है।बेचारी सेविका ना घर की रही ना घाट की। सरकार दोहरी नीति चल रही है।कई जगह से तो अप्रिय घटना की भी बात सामने आई है। वही विभागीय पदाधिकारियों द्वारा बार-बार सभी कार्यों को पोषण ट्रैकर पर अपलोड करने का निर्देश जारी होते रहता है लेकिन पूरे बिहार में कहीं भी पोषण ट्रैकर एप सही से काम नहीं करता।

Advertisement

सेविका सहायिका, बच्चों की उपस्थिति तो बन ही नहीं पाती और कार्य तो बहुत दूर की बात है। यह बातें संबंधित पदाधिकारी को भी पता है। लेकिन फिर भी लेटर निकालने से नहीं चूकते। वही सविता कुमारी ने यह भी बताया की बिदुपुर प्रखंड में लगभग आंगनवाड़ी सेविका सहायिका का मानदेय भी सही समय से भुगतान नहीं किया जाता और लगभग कई महीनों से ही नहीं बल्कि कई बर्षो से बहुतों सेविका सहायिका का मानदेय में गड़बड़ी है, जिसकी लिखित शिकायत बाल विकास परियोजना पदाधिकारी से लेकर जिला प्रोग्राम पदाधिकारी वैशाली तक को सूचित कर दिया गया है।

वहीं मुख्यमंत्री जनता दरबार में शिकायत पत्र के सन्दर्भ में आईसीडीएस के निदेशक महोदय के द्वारा एक पत्र निर्गत किया गया है जिसका पत्रांक 382 दिनांक 27 जनवरी 2022 के आलोक में सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी को निर्देश दिया गया है कि हर हाल में  सभी आंगनवाड़ी सेविका सहायिका का बकाया मानदेय 31 जनवरी 2022 तक आंगन ऐप पर अपलोड करना सुनिश्चित करें। अब देखना यह है कि 31 जनवरी तक मानदेय संबंधी परेशानियों का निराकरण हो पाता है या नहीं।

 

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here