हाजीपुर सदर प्रखंड एवं अंचल कार्यालय परिसर पहुंच जिलाधिकारी यशपाल मीणा ने किया निरीक्षण

Advertisement

वाणीश्री न्यूज़, हाजीपुर। जिलाधिकारी यशपाल मीणा के द्वारा वैशाली जिला के हाजीपुर सदर प्रखंड एवं अंचल कार्यालय परिसर पहुंच निरीक्षण किया। इस दौरान उनके द्वारा परिसर में स्थित एक-एक भवन, पदाधिकारी तथा कर्मियों के आवास एवं कार्यालय की जानकारी प्राप्त की। यहाँ आरटीपीएस काउन्टर को देखा गया तथा प्राप्त आवेदनों को कर्मचारी को कैसे रिसिव कराया जा रहा है वह भी देखा गया। यहाँ पर स्वयं जिलाधिकारी ने अभिलेख संधारण का चार्ट बनाया और पूरे जिला में इसका अनुपालन करने का निदेश दिया। यहाँ पर मापी पंजी देखी गयी। परन्तु इसका संधारण सही नहीं पाया गया।

Advertisement

इस पर अंचलाधिकारी से स्पष्टीकरण किया गया। जिलाधिकारी ने मापी पंजी के संधारण को भी बताया और इसे भी सभी जगह लागू कराने का निदेश दिया। दाखिल-खारीज के मामलों की पड़ताल करने पर पता चला कि अंचलाधिकारी के पास 582, अंचल निरीक्षक के पास 446 और कर्मचारियों के पास 1815 मामले लम्बित है।

इस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की और कर्मचारी हरेन्द्र राम एवं पुरुषोत्तम कुमार से स्पष्टीकरण करने का निदेश दिया गया। इन दोनो के पास लगभग 600-600 आवेदन पेडिंग पाये गये। समीक्षा में पाया गया कि यहाँ O पिछले तीन वर्षों में 40 हजार आवेदन प्राप्त हुए है जिसमें 25000 आवेदनों  का रिजेक्शन हुआ है।

रिजेक्शन की इतनी बड़ी संख्या पर नाराजगी व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि बिना यथोचित कारण के  अस्वीकृत नहीं किया जाय। मठ एवं सरकारी जमीन के बारे में पुछने पर अंचलाधिकारी ने बताया कि हाजीपुर अंचल के नगर परिषद एक एवं दो में एक सौ एकड़ से अधिक जमीन मठ का हे जिसकी जमाबंदी खुली है। जिलाधिकारी ने कहा कि इस भूमि का भौतिक सत्यापन किया जाय तथा यह देख लिया जाय कि कितनी जमीन अतिक्रमित है।

इस दौरान जिलाधिकारी के द्वारा निरीक्षण के क्रम में पीएम आवास, मनरेगा, विद्यालय, आंगनवाडी केन्द्र, धान अधिप्राप्ति की समीक्षा की गयी और इस क्रम पीएम आवास के लाभुको को यथाशीघ्र दूसरी किस्त की राशि देने एवं जून माह तक हर हाल में सभी 30 हजार घरों को पूरा करा लेने का निदेश दिया गया। जिलाधिकारी के द्वारा अपने भवन में संचालित सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों में बाला पेन्टिंग्स कराने का निदेश दिया गया। सभी पंचायतों में एक-एक पुस्तकालय खोलने और वहाँ प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करने वाली पुस्तकों एवं पत्रिकाओं के साथ सातवीं कक्षा से लेकर 12 वीं कक्षा तक की एनसीआरटी की पुस्तकों को रखने का निदेश दिया गया। जिलाधिकारी ने इसे गंभीरता से लेने का निदेश दिया।

जिलाधिकारी ने कहा कि मनरेगा के तहत किये गये पाँच बड़ी कार्यो का भौतिक सत्यापन मनरेगा पीओ स्वयं करेंगे। उसी प्रकार प्रत्येक अंचल के पाँच बड़े रकवा वाले दाखिल खारीज का भौतिक सत्यापन अंचलाधिकारी करेंगे। मनरेगा के 100 सक्रीय जॉब कार्डधारी का भौतिक सत्यापन भी कराने और जॉबकार्ड पर लगे फोटो से चेहरे की मिलान करने का निदेश दिया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि मनरेगा में कहीं भी जेसीबी का प्रयोग न हो यह सुनिश्चित करायी जाय। वही सभी अंचलों में भूमिहीनों को पचास-पचास पर्चा जारी करने एवं 16 जून को कैम्प लगाकर पर्चा वितरित कराने का निदेश दिया गया।

#IPRDBihar
#RevenueDepartment
#MNREGA

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here