बेतुका फरमान वापस ले सरकार : डॉ रुपक कुमार

Advertisement

वाणीश्री न्यूज़, वैशाली सरकार की मंशा शिक्षको को हमेशा से अपमानित करने की रही है। पूर्व मे भी शिक्षकों को खुले मे शौच करने वालो की पहचान करने का फरमान जारी हुआ था, अब शराबियों को चिन्हित कर मद्यनिषेद विभाग को सूचना देकर पकड़वाने का नया काम दिया गया है। हो सकता है फिर जातीय जनगणना मे भी शिक्षको को लगा दिया जाए क्योंकि मुख्यमंत्री जातीय जनगणना को लेकर व्याकुल दिख रहे है।

उक्त बाते शिक्षक नेता डाॅ रुपक कुमार  ने मीडिया को संबोधित कर बताया आगे उन्होंने कहा कि सरकार शिक्षको को सम्मानजनक वेतनमान तो देती नही पर दर्जनों गैर-शैक्षणिक कार्य करवाती है। चुनाव कार्य, वैक्सिनेशन, मीड-डे-मील, जनगणना, मतगणना और वीक्षण से लेकर परीक्षक तक का कार्य सब काम शिक्षक के जिम्मे है। सरकार को जवाब देना चाहिए कि आखिर शिक्षक शैक्षणिक कार्य कब और कैसे करेंगे?

Advertisement

ऐसे ही हरेक विद्यालय मे आवश्यकतानुसार शिक्षक की भारी कमी है।  सरकार को समझना चाहिए कि शराब माफिया कुछ भ्रष्ट पुलिस अधिकारी और अपराधियो के सहयोग से ही कारोबार चला रहे है, ऐसे में शिक्षकों के लिए इन माफियाओं को पकड़वाना आत्मघाती कदम होगा। पहले सरकार शिक्षकों के सुरक्षा का ख्याल करे नही तो यह बेतुका फरमान वापस ले।

 

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here