राम विलास पासवान की स्मृति में चौहरमल लोक अधिकार मोर्चा ने मनाया सम्मान दिवस

Advertisement
पासवान समाज को 1977 से अब तक क्या मिला : प्रेम शंकर पासवान
राम विलास पासवान की स्मृति में चौहरमल लोक अधिकार मोर्चा ने मनाया सम्मान दिवस
रिपोर्ट: शाहनवाज अता, हाजीपुर(वैशाली)।चौहरमल लोक अधिकार मोर्चा वैशाली के बैनर तले हाजीपुर शहर के चौहरमल भवन परिसर में हाजीपुर से विश्व रिकॉर्ड जीत दर्ज करने वाले पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्वर्गीय राम विलास पासवान के जन्म दिवस के अवसर पर उनके स्मृति में सम्मान दिवस मनाया गया।कार्यक्रम में सर्व प्रथम राम विलास पासवान के चित्र पर सभी ने पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजली दी।
कार्यक्रम में शामिल चौहरमल लोक अधिकार मोर्चा के राष्ट्रीय संयोजक सह अध्यक्ष प्रेम शंकर पासवान ने संबोधित कर कहा कि राम विलास पासवान दो सौ किलोमीटर से दूरी तय कर हाजीपुर की धरती से राजनीतिक उंचाई पर चढें।हाजीपुर की धरती ही नहीं बल्कि हर समुदाय के लोगों ने उन्हें सम्मान दिया और गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड में उनका नाम दर्ज करवाया।जिस समाज से वो आते हैं उस समाज के लोग हर समय राम विलास पासवान के साथ चट्टान की तरह खड़े रहे।जब भी राजनीतिक करवट लिया समाज उनके साथ रहा।
राम विलास पासवान जी की राजनीति में बारी-बारी से करवट बदलने पर पासवान समाज बिहार की जातियों से कटुता झेलते आ रहा है।जैसा विकास होना चाहिए न हो सका।पासवान समाज का एक भी एम एल ए,एमपी,उद्योगपति,ठेकेदार,आई एस,आई पी एस नहीं हुआ।हाजीपुर की जनता कष्ट झेलकर राम विलास पासवान को दो-दो बार गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड में नाम दर्ज कराया।हाजीपुर की जनता को जो मिलना चाहिए था वो नही मिल सका।
हाजीपुर की धरती को राम विलास पासवान मां समान बोलते-बोलते मर गए मगर उनके परिवार के लोगों ने उनके पार्थिव शरीर को थोड़ा देर के लिए भी मां की धरती के आंचल में मृत राम विलास पासवान जैसे बेटे का हाजीपुर लाना उचित नहीं समझा।हाजीपुर की धरती का तमाम भाई समान जनता अपने भाई का मरा हुआ मुंह भी नहीं देख सका इसका जिम्मेवार कौन है?राम विलास पासवान के शरीर को कपड़े में लिपटा हुआ किसी ने देखा होगा मगर मरा हुआ भाई का मुंह नहीं देखा होगा यह मोर्चा का दावा है।
हम सभी जिम्मेवार को ढूंढ कर निकालें।राम विलास पासवान जी का पार्थिव शरीर का फोटो सूट होते फिल्मी स्टाईल में विश्व के लोगों ने फेसबुक के माध्यम से देखा।परिवार के लोगों का अपने आपको सही वारिस होने का दावा आज दो ध्रुवीय हो गया।कोई सहयोग कर तो कोई आशिर्वाद यात्रा से अपने आप को सही वारिस होने का श्वान रच रहा है।क्या आदर्श पुरूष की आत्मा भोज खाकर आशिर्वाद दे पाएंगे?श्री पासवान ने कहा कि राम विलास पासवान की मृत आत्मा कहीं से देखती होगी तो तड़पती होगी,सम्मान की भूखी होगी जो प्रथम स्मृति में सम्मान आज चौहरमल लोक अधिकार मोर्चा द्वारा उनके ही सांसद कोष से बना चौहरमल लोक भवन में उनके संसदीय क्षेत्र हाजीपुर में दी गई।
प्रेम शंकर पासवान ने बिहार के तमाम जनता और विशेष तौर पर पासवान समाज को इस स्वार्थी आपसी पारिवारिक विवाद से सभी नेता,कार्यकर्ता साथी अपने आप को अलग रखने की अपील की है।उन्होंने कहा कि अगर हम सभी ऐसा नही करते हैं तो समाजिक एकता टूट जाएगी और मृत राम विलास पासवान जी आत्मा को शांति भी नहीं मिलेगी।
वहीं मिडिया बन्धु से भी आग्रह किया कि आप किसी समाज से पूछते हैं कि इस गुट या उस गुट में हैं।अच्छा होगा कि आप यह पूछें कि आपको 1977 से अब तक क्या मिला तो अच्छा लगता।इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष हरे कृष्ण पासवान ने की।जबकि कार्यक्रम में गणेश पासवान,दिलीप पासवान,शिव नाथ भगत,मुकेश पासवान,कृष्ण पासवान,लव कुश पासवान,विनय पासवान,सुशील पासवान,भुकेश जी,अमिर चंद्र,शीतल सहनी,रंजीत पासवान पूर्व जिला परिषद,संजय कुमार पासवान आदि समेत दर्जनों लोग शामिल हुए।
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here