BiharJan SamasyaNationalRajapakarVaishali
Trending

अब तक आठ बार वोट दिया है लेकिन गाँव और प्रखंडों में अभी तक कुच्छो नहीं मिला

राजापाकर। हाथ छाप पर दिया, हरबैल पर दिया, लालटेन को दिया, तीर पर दिया फिर फूल को दिया,जहां बोला वहां दे दिया, अब तक आठ बार वोट दिया है लेकिन गाँव और प्रखंडों में अभी तक कुच्छो नहीं  मिला। रह कहते हुए 80 की उम्मीद कर चुके राम दयाल सिंह  व राजेश राय पूरे गांव की वस्तुस्थिति से अवगत कराते है। हमसे पूछने लगते हैं  कि की करता बाबू फेरो भोट देने के टाइम रहलो,तब विधायक जी नजर अथीना। रामदयाल सिंह और राजेश्वर राय राजापाकर विधानसभा क्षेत्र के भलुई पंचायत अंतर्गत भलूई पंचायत के रहने वाले हैं वे बताते हैं कि चुनावी मौसम में वोट मांगने हर कोई आता है पर जीतने के बाद इस गांव का सुध लेने वाला कोई नहीं है ।

गांव वाले अपने तमाम परेशानी के साथ जिंदगी जीने पर मजबूर है राजापाकर विधानसभा का बेहद उपेक्षित गांव है आज तक कोई सरकारी योजना का लाभ इस गांव को नहीं मिला गांव में सड़क पानी नाली और स्वास्थ सुविधा मूल समस्या है। सड़क नहीं रहने के कारण सावन भादो की कौन कहे जेठ में भी लोग को कीचड़ से सामना करना पड़ता है । स्थानीय लोग बताते हैं कि यहां के विधायक का चेहरा देखा ना तो दूर लोग उनका पूरा नाम तक नहीं जानते हैं सिंचाई की भी कोई व्यवस्था नहीं है गांव में अशोक यादव ने बताया है कि आजादी से अब तक हाल के दिनों में सरकारी सुविधा के नाम पर मुखिया फंड से तीन सौ फीट पीसीसी सड़क का निर्माण कराया गया है। गांव में पानी पीने के लिए एक भी सरकारी चापाकल नहीं है ।

मुख्यमंत्री का सात निश्चय योजना  कागज पर ही चल रहा है इसके अलावा यहां तो बच्चों के लिए स्कूल है और ना ही स्वास्थ्य केंद्र गांव के छात्र 2 किलोमीटर दूर राजापाकर हाई स्कूल पढाई करने जाते हैं  एक ग्रामीण ने कहा, बउआ विधायक के है। आई कैसे हैं। हमने ना जाना हाथों। गांव बुजुर्ग महिला पड़वा देवी कहती है कि वोट मांगने के लिए सब यहां आते हैं पर जीतने के बाद कोई नहीं आज तक हम लोग ने अपने विधायक का चेहरा नहीं देखा हालांकि कुछ ऐसे लोग भी मिले जिन्हें ने बताया कि उन्होंने अपने विधायक के गांव से बाहर देखा है फिर भी हम लोग वोट देते आ रहे हैं केवल विधायक जी वोट लेने एवं पार्टी बताते हैं

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close
%d bloggers like this: