हाजीपुर(वैशाली)।परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ की बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई जिसकी अध्यक्षता जिला अध्यक्ष दिनेश पासवान ने और संचालन जिला वरीय सचिव नवनीत कुमार ने की। बैठक में जिला कार्यसमिति के  पदाधिकारी उपस्थित रहे और सरकार के आदेश का विरोध करते हुए कहा वर्ष 2006 से 2015 की अवधि में पंचायती राज संस्थानों एवं नगर निकाय संस्थानों द्वारा नियुक्त शिक्षकों के प्रमाणपत्रों की जांच के क्रम में शिक्षा विभाग द्वारा बनाए गए वेबसाइट पर मेधा सूची अपलोड करने संबंधी आदेश को शिक्षकों ने अदूरदर्शी करार देते हुए कहाँ इसे जल्द से जल्द वापस लिया जाना चाहिए।

जिला अध्यक्ष दिनेश पासवान, संयोजक मनौवर अली नूरानी, कोषाध्यक्ष इंद्र देव महतो ने कहा राज्य में कार्यरत पंचायत प्रारंभिक शिक्षकों के प्रमाण पत्रों की निगरानी अन्वेषण ब्यूरो द्वारा जांच की जा रही है। जांच के क्रम में शिक्षकों से उनके प्रमाण पत्रों का फोल्डर शिक्षा विभाग में जमा कराए गए थे कुछ शिक्षकों का प्रमाण पत्र विभागीय अधिकारियों की लापरवाही के कारण जमा नहीं किए जा सके। प्रमाण पत्र जमा करने या अपलोड करने संबंधी आदेश का अनुपालन शिक्षक कर रहे हैं किंतु प्रकाशित विज्ञापन में शिक्षकों को उनकी नियुक्ति से संबंधित मेधा सूची भी अब अपलोड करने का आदेश दे दिया गया है जो बिल्कुल ही गलत है।

शिक्षकों की नियुक्ति से संबंधित आवेदन एवं नियुक्ति संबंधी अन्य कार्यवाही के अभिलेख नियोजन इकाई के पास सुरक्षित होंगे। जबकि शिक्षकों से नियोजन संबंधी मेधा सूची की माँग की जा रही इस आदेश पर घोर आश्चर्य हो रहा है। विभाग द्वारा शिक्षकों को तंग करने का अंतहीन सिलसिला जारी है।महासचिव झुन्नीलाल पंकज एवं जिला वरीय सचिव नवनीत कुमार ने कहा शिक्षकों को मेधा सूची शिक्षा विभाग विभाग की वेबसाइट पर अपलोड करने का आदेश दुर्भाग्यपूर्ण रवैया है। शिक्षकों को प्रताड़ित करने का सोची समझी साजिश प्रतीत हो रही है जिसे रोकने की आवश्यकता है अभिलंब इस आदेश को स्थगित करना चाहिए।उन्होंने कहा कि इस आदेश की कोई आवश्यकता ही नहीं थी क्योंकि जब शिक्षकों की नियुक्ति हुई उस समय सभी संबंधित नियोजन इकाइयों द्वारा तैयार किए गए मेधा सूची की प्रति शिक्षा विभाग के जिला स्तरीय पदाधिकारी को उपलब्ध करा दिए गए थे इसके अनुमोदन के उपरांत ही शिक्षकों की नियुक्ति पत्र दिए गए थे।

परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर ब्रजवासी ने इस समस्या को लेकर माननीय मुख्यमंत्री, बिहार सरकार, प्रमुख सचिव, शिक्षा विभाग, प्रधान सचिव, निगरानी विभाग और निदेशक माध्यमिक शिक्षा, बिहार को पत्र लिखकर इस आदेश को संशोधित करने हेतु लिखा है।वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग बैठक में जिला अध्यक्ष दिनेश पासवान, संयोजक मनौवर अली नूरानी, महासचिव झुन्नीलाल पंकज, वरीय सचिव नवनीत कुमार, कोषाध्यक्ष इंद्र देव महतो, सचिव मोहम्मद अब्दुल कादिर, अरविंद कुमार केजरीवाल, राजू रंजन, मुकेश प्रीतम, अमरेंद्र कुमार, नागमणि इत्यादि शिक्षक शामिल हुए।

Previous articleखुद आरक्षण सीट से जीतकर सांसद बने है वह आरक्षण के विरोध में बात न करें: रामनाथ रमण
Next articleभारतीय ब्रेन ड्रेन रोककर शिक्षा में हो रहे नए प्रयोगों से समाज को अवगत कराना- सुनील अंबेकर