पेड़ पौधों की घटती संख्या के कारण बंदरों का झुंड उत्तर बिहार के लिए बन रहा काल

पेड़ पौधों की घटती संख्या के कारण बंदरों का झुंड उत्तर बिहार के लिए काल बन गया है। छपरा, सीवान, गोपालगंज, मोतिहारी, बेतिया समेत नेपाल के तराई के इलाके वाले जिलों में बंदरों ने लोगों का जीना दूभर कर रखा है। पहले यह बंदर के बगीचों में आश्रय पाते थे जहां सालों भर इन है विभिन्न पेड़ पौधों से खाने पीने की चीजें मिल जाया करती थी।

महुआ का पेड़ इन का सबसे बड़ा आश्चर्य हुआ करता था पर पैरों की घटती संख्या नहीं बन इन बंदरों को गांव के बगीचे से गांव में शिफ्ट कर दिया। पहले तो यह बंदर घर के छत ऊपर नजर आते थे। इधर उधर धमाचौकड़ी करते थे पर अब यह पूरी तरह से आक्रामक हो गए है। खाने पीने की जरूरत पूरा करने के लिए अब यह लोगों पर हमला करते हैं। घरों में घुस जाते हैं। छोटे बच्चों को नुकसान पहुंचाते हैं ।घर के किचन में रखी वस्तुओं को लेकर भाग जाते हैं। इनका झुंड गांव-गांव में 500 से 1000 की संख्या में हैं।

सबसे ज्यादा परेशानी छपरा और गोपालगंज के लोगों को है। छपरा से लेकर गोपालगंज तक रेलवे लाइन के किनारे के पेड़ और स्टेशन इनके आसरा हुआ करते थे पर लॉकडाउन के कारण ट्रेनों का परिचालन प्रभावित हुआ तो यह बंदर भी गांव की तरफ शिफ्ट कर गए। स्थिति इतनी विकराल है कि आए दिन कोई न कोई घटना घटती रहती है इलाके के जनप्रतिनिधियों तक से लोगों ने अपील की कि वन विभाग के सहयोग से इन बंदरों को यहां से दूसरे जगह शिफ्ट कराया जाए। वन विभाग भी इन बंदरों को पकड़ने में कोई रुचि नहीं दिखाता है।

बंदरों के साथ ही साथ उत्तर बिहार में जंगली सूअर, नीलगाय भी काल बनकर आए बंदरों के कारण घर के इर्द-गिर्द उगने वाली सब्जियां अब किसान नहीं उगाते हैं। वहीं खेतों में नीलगाय और जंगली सूअरों ने दलहन, तिलहन और मकई की फसल को भारी नुकसान पहुंचाना शुरू कर दिया है। पहले यह बंदर लोगों से डरते थे पर यह आप लोगों पर हमला कर देते हैं। इन की प्रजनन क्षमता काफी ज्यादा है। इस कारण से इनकी संख्या में तेजी से इजाफा होते जा रहा है। अगर समय रहते बंदरों के समस्या पर कोई कारगर कदम नहीं उठाया गया तो यह आने वाले समय में और ज्यादा खतरनाक हो सकते हैं।

Related Posts

परिवर्तनकारी शिक्षक महासंघ ने किया मांग शिक्षकों पर हुई कार्रवाई की हो वापसी

वाणीश्री न्यूज़, पटना। परिवर्तनकारी शिक्षक महासंघ के प्रदेश कार्यकारी संयोजक नवनीत कुमार एवं प्रदेश संगठन महामंत्री शिशिर…

Continue reading
छात्रों और शिक्षकों के लिए राहत की खबर 11 से 15 जुन तक विद्यालय में रहेगा अवकाश

छात्रों और शिक्षकों के लिए राहत की खबर, सन्नी सिन्हा ने दिया आदेश, 11 से 15 जुन…

Continue reading

You Missed

परिवर्तनकारी शिक्षक महासंघ ने किया मांग शिक्षकों पर हुई कार्रवाई की हो वापसी

परिवर्तनकारी शिक्षक महासंघ ने किया मांग शिक्षकों पर हुई कार्रवाई की हो वापसी

छात्रों और शिक्षकों के लिए राहत की खबर 11 से 15 जुन तक विद्यालय में रहेगा अवकाश

एक महीने के भीतर गांव में सोलर स्ट्रीट लाइट का शत प्रतिशत अधिष्ठापन कराएं : डीएम

एक महीने के भीतर गांव में सोलर स्ट्रीट लाइट का शत प्रतिशत अधिष्ठापन कराएं  : डीएम

तेघड़ा में फ्लाईओवर बनाने की माँग हुई तेज

तेघड़ा में फ्लाईओवर बनाने की माँग हुई तेज

संत पॉल पब्लिक स्कूल तेघड़ा में समर कैम्प शुरू, बच्चों को मिल रहा विशेष शिक्षा

संत पॉल पब्लिक स्कूल तेघड़ा में समर कैम्प शुरू, बच्चों को मिल रहा विशेष शिक्षा

भीषण गर्मी व लू से बचाव को लेकर अधिकारियों को डी.एम ने दिए कई निर्देश

भीषण गर्मी व लू से बचाव को लेकर अधिकारियों को डी.एम ने दिए कई निर्देश