JaisinghpurNationalSultanpurUttar Pradesh

गंगा के जलस्तर में वृद्धि से दहशत में राघोपुर के लोग

राघोपुर-गंगा नदी के जलस्तर में हो रही वृद्धि को देख राघोपुर प्रखंड में बाढ़ की संभावनाओं से इनकार नहीं किया जा सकता। प्रखंड के कई छोटे-छोटे ढाबों में गंगा के पानी फैल गया है। जिसको लेकर निचले इलाके में बसे लोगों की चिंता बढ़ गई है। लोग अभी से ऊंचे स्थान पर शरण लेने की फिराक में लगे हैं। गंगा के जलस्तर में हो रही वृद्धि से प्रखंड वासी पर मडराने लगा बाढ़ का खतरा। बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र के नाम से चर्चित चारों तरफ गंगा से गिरे राघोपुर प्रखंड में वार्ड के त्रासदी झेल चुके लोगों की धड़कन तेज हो गई है। बाढ़ की विभीषिका देख चुके कई आंखों में आज भी खौफनाक मंजर कैद है। जिसने उनसे उनकी परिवार की खुशियां छीन ली थी।

जुलाई महीना शुरू होते ही यहां लोगों को डर सताने लगता है। गंगा के जलस्तर में वृद्धि को लेकर प्रखंड के निचले इलाके में बसे गांव के लोगों की चिंता बढ़ गई है।मालूम हो कि वर्ष 2016 19 में आई बाढ़ ने कई लोगों की आशियाने छीन लिए थे। एवं कई लोगों की जान पानी में डूबने से चली गई थी। कई मवेशी पानी में बह गए थे।लोगों को अपना घर छोड़कर उचे स्थान पर लगभग डेढ़ महीने तक शरण लेनी पड़ी थी। प्रखंड के निचले इलाके में बसे चकसिंगार पंचायत के रामपुर करारी, रामपुर लंका, जुड़ावनपुर,वीरपुर, हजपुरवा, जहांगीरपुर, सुकुमार पुर, परोहा, पुरुषोत्तमपुर, जाफराबाद टोक, सरफाबाद, हेमतपुर, गोरीहारी, वाहिदपुर, शाइस्ता पुर आदि गांव के लोग चिंतित हैं।
बाढ़ को लेकर अंचल प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है।प्रखंड के 20 पंचायत में 45 कम्युनिटी किचन सेंटर के लिए विद्यालय को चिन्हित किया गया है। सेंटर पर तीन शिफ्ट में शिक्षकों की ड्यूटी को लेकर पत्र जारी की गई है।इसके अलावा तीन अतिरिक्त दीदारगंज पटना रेपुरा फतुहा एवं गंगा ब्रिज थाना के निकट कम्युनिटी किचन सेंटर के लिए जगह चिन्हित किया गया है। सीओ ने बताया कि प्रखंड में 32 छोटा एवं 6 छोटा 9 जबकि 1 वोट उपलब्ध है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close
%d bloggers like this: