NationalSultanpurUttar Pradesh

14 लाख सीड बमों से आयेगी हरितक्रान्ति- जिलाधिकारी सी इन्दुमति

सुल्तानपुर ब्यूरो की रिपोर्ट 

शासन की हरितक्रान्ति मंशा को साकार करने एवं गोमती नदी के पुरातनकाल को पुनः वापस लाकार पर्यावरण को शुद्ध करने के उद्देश्य से जिलाधिकारी सी0 इन्दुमती की पहल पर 137 किमी0 गोमती नदी क्षेत्र के 110 तटीय गांवों में एक घण्टे के अन्तराल में 14 लाख सीड बमों द्वारा प्राकृतिक रोपण किया गया।

मुख्य कार्यक्रम ब्लाक दूबेपुर के ओद्रा गांव में गोमती नदी के किनारे सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम में विधान परिषद सदस्य शैलेन्द्र सिंह, विधायक लम्भुआ देवमणि द्विवेदी, जिला पंचायत अध्यक्ष ऊषा सिंह, जिलाधिकारी सी0 इन्दुमती, पुलिस अधीक्षक हिमांशु कुमार, अपर जिलाधिकारी(प्रशा0) हर्ष देव पाण्डेय, डीएफओ आनन्देश्वर प्रसाद, उप जिलाधिकारी सदर रामजी लाल, उप प्रभागीय वनाधिकारी अतुलकान्त मिश्र, अपर मुख्य अधिकारी उदय शंकर सिंह, जिला अभियन्ता जिला पंचायत, डाॅ0 राकेश यादव, तहसीलदार सदर पीयूष सहित ग्राम प्रधानों, नेहरू युवा केन्द्र, स्वयं सेवियों, शैक्षिक संस्थाओं आदि ने भाग लेकर एक घण्टे के अन्तराल में 22 हजार सीड बमों द्वारा प्राकृतिक रोपण किया गया। इसी प्रकार 137 किमी0 गोमती नदी क्षेत्र के 110 तटीय गांवों में भी एक घण्टे के अन्तराल में 12 से 13 हजार के मध्य प्रत्येक ग्राम में सीड बमों को छोड़ा गया। इस प्रकार जनपद में प्रातः 10 बजे से 11 बजे के मध्य कुल 14 लाख सीड बमों के द्वारा प्राकृतिक रोपण किया गया। लिम्का बुक आॅफ रिकार्ड एवं एशिया बुक आॅफ रिकार्ड की टीमों द्वारा भी कार्यक्रम पर सतर्क नजर रखी गयी।
इस अवसर जिलाधिकारी सी0 इन्दुमती ने अपने ड्रीम प्रोजेक्ट की सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि सकारात्मक सोंच के साथ कार्य करने वालों का प्रकृति भी साथ देती है। उन्होंने कहा कि इतने अधिक संख्या में सीड बम बनाना और उनका प्राकृतिक रोपण करना कोई आसान कार्य नहीं था, परन्तु जनपद के जन प्रतिनिधियों, अधिकारियों, स्वयं सेवियों, शैक्षित संस्थाओं, ग्रामवासियों आदि सभी के अथक प्रयास से यह सम्भव हो सका। उन्होंने सभी के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया।
सीड बम कार्यक्रम से सम्बन्धित आये विचार के विषय में जानकारी देते हुए जिलाधिकारी ने बताया कि शासन की हरितक्रान्ति मंशा को साकार करने एवं गोमती नदी के पुरातनकाल को पुनः वापस लाकार पर्यावरण को शुद्ध करने के साथ ही प्रकृति द्वारा उपलब्ध कराये गये बीजों का समुचित उपयोग करने हेतु यह पहल की गयी है। उन्होंने बताया कि अधिकतर बीज खराब हो जाते हैं, जिनका कोई उपयोग नहीं हो पाता, को कृत्रिम रूप देते हुए सीड बम के रूप में गोमती तट के रिक्त स्थानों पर डाला गया। श्रीमती इन्दुमती ने बताया कि जनपद के अन्तर्गत गोमती नदी के आ रहे 137 किमी0 के पूरे स्ट्रेच (110 गांव) को कवर करके जिला प्रशासन का उन दूरस्थ क्षेत्रों में भी अपनी उपस्थिति एक रचनात्मक कार्य के जरिये दर्ज कराने का एक सार्थक प्रयास है, जिससे गोमती नदी को उसका पुराना सम्मान फिर से वापस दिलाया जा सके। उन्होंने कहा कि बीज का सम्मान करना हमारी भारतीय परम्परा रही है, यदि हम बीज का सम्मान नहीं करते हैं, तो हम अपनी संस्कृति से दूर जा रहें हैं। इस कार्यक्रम का लक्ष्य जीवन देने वाली शक्ति का सम्मान देने की बात को जन साधारण तक ले जाने का भी है। उन्होंने यह भी कहा कि मातृ शक्ति/बीज के विरूद्ध हो रहे अन्याय व उसका सम्मान करने की प्रेरणा के रूप में यह कार्यक्रम जाना जायेगा। कार्यक्रम को विधान परिषद सदस्य शैलेन्द्र सिंह, मुख्य विकास अधिकारी मधुसूदन हुल्गी, अपर जिलाधिकारी(प्रशा0) हर्ष देव पाण्डेय, डीएफओ आनन्देश्वर प्रसाद ने भी सम्बोधित किया। कार्यक्रम का संचालन उप प्रभागीय वनाधिकारी अतुलकान्त मिश्र ने तथा आभार उप जिलाधिकारी सदर रामजी लाल ने प्रकट किया।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close
%d bloggers like this: