BiharDesriNationalSahdei BuzurgVaishali
Trending

बिहार में लोकतांत्रिक सरकार नही नौकरशाहों की सरकार-विधान पार्षद डॉ संजय कुमार सिंह

सहदेई बुजुर्ग – सहदेई बुजुर्ग प्रखण्ड के अन्धराबड़ चौक स्थित नीतेश कुमार स्मारक महाविद्यालय में आयोजित अभिनंन्दन समारोह में तिरहूत शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के विधान पार्षद प्रो0 (डॉ) संजय कुमार सिंह का भव्य स्वागत किया गया वही अपनी संबोधन में तिरहूत शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के विधान पार्षद प्रो0 (डॉ) संजय कुमार सिंह ने कहा कि बिहार में लोकतांत्रिक सरकार नही नौकरशाहों की सरकार है। यहां की व्यवस्था लोकतांत्रिक सरकार नहीं बल्कि नौकरशाह चला रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार की प्राथमिकता में शिक्षा नहीं है। इसी कारण शिक्षा की स्थिति राज्य में बहुत चिंताजनक है। प्राथमिक,माध्यमिक और विश्वविद्यालय में शिक्षा व्यवस्था मृतप्राय है।एक ही राज्य में कई प्रकार के शिक्षक एवं शिक्षा की व्यवस्था है।सरकार की सोच ही है कि बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा न देकर उन्हें शिक्षा से वंचित रखा जाए ताकि उनकी सत्ता बरकरार रहे।उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थान और शिक्षा को आगे बढ़ाने का कार्य कभी भी सरकारों ने नहीं किया।बल्कि समाज के जागरूक लोगों और बुद्धिजीवियों ने ही शिक्षण संस्थानों की स्थापना की और शिक्षा को आगे बढ़ाने का कार्य किया।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकारों की सोच है कि शासन करना है तो शिक्षा व्यवस्था को ध्वस्त कर दो।आज निजी शिक्षण संस्थानों में कार्य शिक्षकों की चिंता सरकार को नहीं है।जबकि राज्य की शिक्षा व्यवस्था ही वित्त रहित शिक्षण संस्थानों से चल रही है।मैट्रिक में 50% और इंटर में 60 से 65% छात्र केवल वित्त रहित कॉलेजों से ही परीक्षा में सम्मिलित हुए हैं।जो राज्य की शिक्षा व्यवस्था को अपने कंधों पर लेकर चल रहे हैं।उन शिक्षकों की चिंता सरकार को नहीं है।वित्त रहित शिक्षकों के लिए उन्होंने कहा कि वह लगातार वित्त रहित शिक्षकों के लिए संघर्ष कर रहे हैं और उन्हें पूर्ण विश्वास है कि आने वाले दिनों में यह स्थिति बदलेगी।उन्होंने मध्य विद्यालयों को माध्यमिक विद्यालय में उत्क्रमित करने के सरकार के फैसले पर तंज कसते हुए कहा की भूमि,भवन एवं उपस्कर विहीन विद्यालयों में माध्यमिक विद्यालय खोलकर सरकार समाज को मूर्ख बना रही है। भवन नहीं है लेकिन एक कमरे में दुकान चल रहा है।

उन्होंने सवाल उठाया कि जहां भवन,उपस्कर नहीं है वहां आखिर पढ़ाई कैसे होगी।सरकार से मांग किया कि ऐसे महाविद्यालय जिनके पास भूमि,भवन एवं उपस्कर है।उनको घाटा अनुदानित संस्थानों में परिणित कर टेकओवर किया जाए।नियोजित शिक्षकों के मुद्दे पर कहा कि सरकार ने नियोजित शिक्षकों के साथ धोखा किया है।नियोजित शिक्षकों की मांगों को सरकार को हर हाल में पूरा करना होगा।नीतेश स्मारक महाविद्यालय में आयोजित इस अभिनंन्दन समारोह में विधान पार्षद प्रो0 (डॉ) संजय कुमार सिंह को कॉलेज के संस्थापक डॉ राजकिशोर पटेल ने शॉल एवं फूल-मालाओं से एवं प्राचार्य प्रो0 विकेश कुमार ने मोमेंटो देकर अभिनंदन किया।ककर्यक्रम को सम्बोधित करते हुय विधान पार्षद ने कहा कि कार्यक्रम के दौरान कॉलेज के शिक्षकों के बिहार सरकार से मांग करते हुय कहा कि प्रखण्ड क्षेत्र की आबादी को देखते हुय कॉलेज में सीटों की संख्या बढ़ाई जाय एवं कॉलेजों को मिलने बाली अनुदान की राशि ससमय दिया जाय।

विधान पार्षद से आग्रह किया कि की उक्त मांगो से बिहार सरकार को अवगत कराते हुय इस मांग को पूरा कराया जाय।कार्यक्रम में नियोजित एवं वित्त रहित शिक्षकों के साथ हो रहे अन्याय पूर्ण व्यवहार की निंदा करते हुय कहा कि सरकार इनको प्रताड़ित कर रही है।मांग किया कि नियोजित एवं वित्तरहित शिक्षकों की मांगों को पूरा किया जाय।इसके लिये संघर्ष करने का भी आह्वान किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रो0 नवक किशोर शर्मा ने एवं संचालन सुधीर मालाकार ने किया। इस कार्यक्रम में कॉलेज के प्राचार्य विकेश कुमार, संस्थापक डॉ राजेश्वर पटेल, प्रो0 संजय कुमार राय, प्रो0 नरेंद्र कुमार सिंह, रामविनोद शर्मा, प्रियदर्शन, प्रो0 पवन कुमार, डॉ तारकेश्वर पंडित, डॉ नारायण दास, देवेंद्र प्रसाद सिंह, अखिलेश झा, अमीर प्रसाद, विज्ञान स्वरूप सिंह, मधुरा सिंह, प्रो0 प्रमोद शर्मा, धर्मेन्द्र नाथ ठाकुर, प्रमोद शर्मा, प्रो0 सुनील कुमार सिंह, देवशंकर प्रसाद सिंह आदि उपस्थित रहे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close
%d bloggers like this: