BachwaraBegusaraiBiharNational
Trending

कार्य दिवस में भी शिक्षक नें किया विद्यालय बंद विद्यार्थियों ने किया जमकर नारेबाजी

बछवाडा़ में शिक्षा विभाग की खुली पोल

राकेश कु०यादव, बछवाडा़ (बेगूसराय)। ” सैंया भये कोतवाल तो फिर काहे का डर” उक्त पंक्ति इन दिनों बछवाडा़ के शिक्षकों पर फिट बैठने लगी है। अथवा युं कहें कि शिक्षकों की दबंगई एवं कर्तव्यहीनता के कारण सर्व शिक्षा अभियान एवं नौनिहालों का भविष्य बीच रास्ते में हीं दम तोड़ रही है। बताते चलें मंगलवार को दादुपुर पंचायत स्थित भासो नंदनी संंतोष प्राथमिक विद्यालय उसराही बिंदटोली के छात्र-छात्राएं समय पर बस्ता लेकर स्कुल पहुंचे मगर वहां को शिक्षक उपस्थित नहीं थे । जबकि विद्यालय में दो शिक्षक क्रमशः कृष्ण कांत कुमार (विद्यालय प्रधान) एवं प्रमिला कुमारी (सहायक शिक्षिका) कार्यरत हैं ।

लगभग आधे घंटे इंतज़ार के बाद शिक्षक आए हाजिरी बनाकर छुट्टी की घोषणा करते हुए चलते बनें । विद्यालय के शिक्षकों के लगातार इस रवैये से छुब्ध छात्र-छात्राओं का आक्रोश फुट पडा़ , और विद्यालय प्रांगण में हीं विद्यार्थियों नें शिक्षकों के खिलाफ जमकर नारेबाजी करने लगें । पुर्व वार्ड सदस्य लक्षमण सिंह , ग्रामीण भिखारी सिंह , संतलाल सिंह , मुनेश्वर यादव , चैतु सिंह आदि नें बताया कि शिक्षकों का यह रवैया अब आम बात हो गयी है। मगर एक बात तो तय है कि शिक्षकों का यह कर्तव्यहीनता इसी प्रकार चलता रहा तो हमारे बच्चों का भविष्य एवं शिक्षा का अधिकार अधिनियम दोनों चौपट हो जाएगा ।

साथ ग्रामीणों नें बताया कि हमारा गांव देहात एवं दियारा क्षेत्र होने के कारण कोई पदाधिकारी भी इस विद्यालय का निरिक्षण करने नहीं आते है । शिक्षक एवं पदाधिकारी आपसी मेल-जोल बैठाकर कागजी खानापूर्ति करते हैं ,और सरकारी खर्च का बंदरबांट कर लेते हैं । उपरोक्त मामले को लेकर जब प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी निर्मला कुमारी से विचार जानने का प्रयास किया गया ,उन्होने कुछ भी बताने से इन्कार करते हुए अपना पल्ला झाड़ गयी । इधर बीडीओ डां० विमल कुमार नें बताया कि दियारा में विद्यालय बंद रहने की सुचना मिली हैं । सम्बंधित शिक्षकों पर विभाग द्वारा आवश्यक कार्यवाई की जाएगी ।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close
%d bloggers like this: