BidupurBiharHajipurNationalVaishali
Trending

चकठकुर्सी पंचायत के महेश्वरपुर के आंगनवाड़ी केंद्र संख्या 302 में भारी अनियमितता

न्यूज़ डेस्क, बिदुपुर। एक तरफ जहां बिहार में विभिन्न प्रकार के बीमारियों से बच्चों की मृत्यु हो रही है जिसमें चमकी बुखार के कारण हुई मौत से कोई अनभिज्ञ नहीं है। इसके विरोध के क्रम में बिहार सरकार के स्वास्थ्य मंत्री पर भी काफी उंगलियां उठी थी और जब केंद्र सरकार की टीम जांच में पहुंची थी तब उन्होंने कहा था कि बच्चों में पोषक तत्वों की कमी भी इन सब बीमारियों का मुख्य कारण हो सकता है।
पोषक तत्व की कमी में कहीं ना कहीं आंगनबाड़ी की भी अहम भूमिका माना जा सकता है। सरकार द्वारा पोषक क्षेत्र के बच्चों के लिए जो पोषक तत्व भेजे जाते हैं वह धरातल पर ना पहुंच कागज पर ही पोषक क्षेत्र के बच्चों को मिल जाते हैं। इसका जीता जागता उदाहरण है जब हमारी टीम को उपमुखिया सुरेश पासवान द्वारा सूचना मिली थी कि चकठकुर्सी पंचायत के महेश्वरपुर के आंगनवाड़ी केंद्र संख्या 302 में भारी अनियमितता बरती जाती है।

उक्त सुचना के आलोक में जब हमारे संवाददाता उक्त केंद्र पर वार्ड सदस्य एवं उपमुखिया सुरेश पासवान के साथ  पहुंचा तो पाया कि कुल 40 बच्चों में समय करीब 11:37 बजे तक मात्र 11 बच्चे मौजूद थे वही जब उपस्थिति पंजी की बात हुई तो उस वक्त तक उपस्थिति पंजी में उपस्थिति तक दर्ज नहीं की गई थी। उपस्थिति दर्ज ना करना पूर्ण रूप से आंगनवाड़ी केंद्र में अनियमितता को दर्शाता है। वहीँ वार्ड सदस्य एवं उपमुखिया सुरेश पासवान के द्वारा यह भी बताया गया की इस आंगनवाडी केंद्र की सेविका एवं सहायिका भी एक हीं परिवार से हैं जो गलत है। बहाली भी गलत तरीके से की गई थी। साथ हीं साथ उन्होंने आरोप लगाया की अध्यक्ष होने के नाते उन्हें आंगनवाडी द्वारा मीटिंग में भी नहीं बुलाया जाता है और ना हीं कुछ बताया जाता है।THR के वितरण में भी काफी गरबड़ी की जाती है।

इस सम्बन्ध में जब बाल विकास परियोजना पदाधिकारी बिदुपुर प्रीति कौशल से संपर्क करने की कोशिश की गई तो उन्होंने फ़ोन नहीं उठाया यहाँ तक की जब भी उनसे किसी भी मुद्दे पर संपर्क करने की कोशिश की जाती है तो वे फ़ोन नहीं उठाती हैं। इससे स्पष्ट होता है की कहीं न कहीं बिदुपुर प्रखंड में पदाधिकारी और सेविका की मिलीभगत से सरकारी राशि का बंदरबाट किया जाता है और आंगनबाड़ी केंद्र पर अनियमितता बरती जाती है। उसके बाद उक्त सम्बन्ध में जब आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ की जिलाध्यक्षा सविता कुमारी से पूछा गया तो उन्होंने इसपर बोलने से इनकार कर दिया। इसके बाद जब हमारे संवाददाता द्वारा जोर दिया गया तो उन्होंने स्पस्ट शब्दों में कहा की मै सही करने वाले आंगनवाडी कार्यकर्ताओं के हक़ के लिए हमेशा उनके साथ हूँ और गलत करने वालों का साथ कभी नहीं दूंगी।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close
%d bloggers like this: