NationalSultanpurUttar Pradesh

जिलाधिकारी ने न्यायिक मजिस्ट्रेट व पुलिस अधिकारियों के साथ वायरल वीडियो क्लिप पर जेल का किया औचक निरीक्षण

वायरल वीडियो की पुष्टि होने पर जेल के जिम्मेदार कर्मचारी व अधिकारी के विरूद्ध विस्तृत जॉच एवं कार्यवाही की संस्तुति डीएम ने दी शासन को

ब्यूरो की रिपोर्ट 

सुलतानपुर – जिला कारागार सुलतानपुर से सम्बन्धित वायरल वीडियो के बारे में जिलाधिकारी सी0 इन्दुमती एवं एसीजेएम सालिक पाण्डेय की उपस्थिति में 19 जून के अपरान्ह 12ः55 बजे अपर जिलाधिकारी(प्रशा0), हर्ष देव पाण्डेय, अपर पुलिस अधीक्षक (नगर), डॉ0 मीनाक्षी कात्यायन, अपर पुलिस अधीक्षक(ग्रामीण), शिवराज, पुलिस क्षेत्राधिकारी(नगर), श्याम देव, पुलिस क्षेत्राधिकारी लम्भुआ, विजय मल सिंह के साथ जिला कारागार का निरीक्षण किया गया। जिला कारागार के कथित वीडियो क्लिप के बारे में जेल अधीक्षिका, अमिता दूबे एवं जेलर कपूर व्रत पाठक से जानकारी करने पर ज्ञात हुआ कि उक्त वीडियो क्लिप में जो बन्दी है, उसका नाम इमरान है जो बैरक नं0 13 में निरूद्ध था। बैरक नं0 13 की सघन तलाशी ली गयी। वीडियो क्लिप के फुटेज तथा बैरक नं0 13 के अवलोकन से प्रथम दृष्टया उक्त वीडियो क्लिप बैरक नं0 13 में ही बनाये जाने की पुष्टि होने पर जिम्मेदार कर्मचारी/अधिकारी के विरूद्ध विस्तृत जॉच एवं कार्यवाही की संस्तुति डीएम के स्तर से 19 जून को ही शासन को प्रेषित कर दिया गया है।

जिलाधिकारी ने बताया कि जिला कारागार सुलतानपुर का कथित वीडियो क्लिप के बारे में समस्त निरीक्षणकर्ता अधिकारी के समक्ष बैरक नं0 13 के निरूद्ध बन्दियों से पूंछ-तॉछ की गयी, उनके द्वारा एक मत होकर बताया कि इमरान एवं सिराज के पास लगभग एक माह पूर्व से मोबाइल मौजूद था एवं उक्त वीडियो लगभग 3-4 दिन पूर्व बन्दी सिराज द्वारा बनाया गया था, जिसमें बन्दी इमरान मोबाइल पर बात कर रहा था।

उन्होंने बताया कि उपरोक्त निरीक्षण के दौरान उक्त बैरक में एक टेलीवीजन मौजूद मिला। वीडियो क्लिप में दर्शित धनराशि, कारतूस एवं अन्य अपत्तिजनक वस्तुएं नहीं पायी गयी। निरीक्षणकर्ता अधिकारी द्वारा गहनता से पूंछ-तॉछ करने पर बन्दियों द्वारा बताया गया कि बन्दी न्यायालय में पेशी के दौरान जब जाते हैं, तो कुछ बन्दी अपने बेल्ट या जूते में उक्त सामग्री छिपाकर लाते हैं, जिसे कारागार परिसर में घास, फुलवारियों एवं झाड़ियो में छिपाकर रख देते हैं। शासन के पत्र 17 जून के क्रम में 18 जून को उपरोक्त जिला कारागार में निरूद्ध बन्दी इमरान एवं सिराज का स्थानान्तरण क्रमशः बरेली एवं कासगंज में किया जा चुका है।

जिलाधिकारी ने जिला कारागार में उक्त कृत्य का किया जाना विधि-विरूद्ध है, जिसके फलस्वरूप जिम्मेदार कर्मचारी/अधिकारी के विरूद्ध विस्तृत जॉच एवं कार्यवाही की संस्तुति 19 जून को ही शासन को प्रेषित कर दी है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close
%d bloggers like this: