विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री सुमित कुमार सिंह ने तकनीकी संस्थानों में महिला आरक्षण को बताया क्रांतिकारी

0
12
Advertisement

 

रिपोर्ट: अनूप नारायण सिंह, पटना। बिहार सरकार में विज्ञान एवं प्रोद्यौगिकी मंत्री सुमित कुमार सिंह ने इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों के नामांकन में महिला व छात्राओं के लिए 33.33 प्रतिशत आरक्षण देने के निर्णय को ऐतिहासिक और क्रांतिकारी करार दिया है। कहा यह राज्य में महिला सशक्तिकरण में एक मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इसके लिए धन्यवाद दिया। सुमित कुमार सिंह ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री खुद अभियंत्रण के क्षेत्र से आते हैं। उन्होंने यह युगांतरकारी फैसला लिया हैं। मुझे गर्व है कि विभाग के मंत्री के रूप में इस फैसले का सहभागी बनने का अवसर मिला।

Advertisement

सुमित कुमार सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हमेशा महिलाओं के उत्थान के लिए प्रयासरत रहे हैं। पहले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव, स्कूल के शिक्षक नियुक्ति और राज्य सरकार की सभी नौकरियों में महिलाओं को आरक्षण दिया और अब इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज के नामांकन में भी उन्हें आरक्षण देने का प्रावधान किया है। उन्होंने ने कहा कि बिहार में अभियंत्रण विश्वविद्यालय और मेडिकल विश्वविद्यालय की स्थापना की जा रही है। यह सराहनीय कदम है। यह शैक्षणिक विशेषज्ञता के क्षेत्र में बड़ा बदलाव का वाहक बनेगा।

श्री सिंह ने कहा कि राज्य के सभी जिलों में इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना हो रही है। वहीं कई जिलों में मेडिकल कॉलेज खुल रहे हैं। ऐसे में राज्य की बेटियों को इंजीनियरिंग और मेडिकल की पढ़ाई के लिए राज्य से बाहर नहीं जाना पड़ेगा। इस क्षेत्र में लिंगानुपात भी सुधरेगा। इंजीनियरिंग में अभी भी छात्राओं की अपेक्षा छात्र ज्यादा होते हैं। ऐसे में छात्राओं को तकनीकी शिक्षा हासिल करने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा।
श्री सिंह ने कहा कि बिहार देश का पहला राज्य होगा, जहां इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में न्यूनतम एक तिहाई सीटें लड़कियों के लिए आरक्षित होंगी। इस तरह बिहार महिला सशक्तिकरण के मामले में देश के समक्ष एक और मिसाल पेश करेगा।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here