हाजीपुर(वैशाली)एसडीपीआई जिला अध्यक्ष रियाज अहमद व जिला महा सचिव मोहम्मद मुर्शिद आलम ने ग्राम डागरू थाना महुआ जिला वैशाली का दौरा किया।जहां कुछ असामाजिक तत्वों ने पहली रमजान को मस्जिद से लाउडस्पीकर उतार कर ले गए व फिर से लगाने पर अंजाम भुगतने को तैयार रहने की धमकी दिया।ग्रामीणों ने बताया की मौके पर आई महुआ एसडीपीओ ने भी असामाजिक तत्वों का पक्ष लेते हुए कहा कि पहले से लाउडस्पीकर नही था इसलिए अब नहीं लगेगा।

ये कहे जाने पर कि सभी मस्जिदों व मंदिरों में तो लगी हुई है। उन्होंने कहा कि तुम्हारे गांव का मामला अलग है।एसडीपीआई जिला अध्यक्ष रियाज अहमद ने प्रशासन पर प्रश्न चिन्ह लगाते हुए कहा कि मुठ्ठी भर असामाजिक तत्वों के सामने प्रशासन भीगी बिल्ली बन जाती है। जब देश के सभी धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर लगने पर प्रतिबंध नहीं है तो क्या ग्राम डागरु एक अलग तानाशाही ताकतों से चलाया जायेगा?

एसडीपीआई प्रशासन से अपील करती है कि अविलंब अपनी मौखिक आदेश वापस लेकर लाउडस्पीकर लगवाए तथा शांति बहाल कराए। प्रशासन के आला अधिकारियों से जल्द ही इस मामले को लेकर एसडीपीआई की टीम मुलाकात करेगी।एसडीपीआई बिहार प्रदेश लीगल इंचार्ज मोहम्मद मुर्शिद आलम ने कहा कि एक समय था जब किसी धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर नही होता था।

आज सभी धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर का होना एक विकास का प्रतीक ही है।ऐसे में किसी खास जगह को चिन्हित कर वहां से जबरन असलहों के बल पर लाउडस्पीकर उतार कर ले जाना प्रशासन व सरकार की पूर्णतः विफलता है।एसडीपीआई इसके लिए हर संभव कानूनी लड़ाई लड़ेगी तथा मजलूमों को उसका हक दिलाएगी। इस अवसर पर जौहर साहब,मोहम्मद मुमताज व सभी ग्रामीण मौजूद थे।

Previous articleजागरूक होकर अपने बच्चों को शिक्षित बनाएं : सचिदानंद सिंह
Next articleवैशाली जिला में एमएलसी चुनाव में भूषण कुमार की हुई जीत