जिलाधिकारी के द्वारा वैशाली के राजापाकर प्रखंड के नारायणपुर बुजुर्ग पंचायत का किया गया भ्रमण, किया योजनाओं की जांच

Advertisement

वाणीश्री न्यूज़, वैशाली। रिपोर्ट: मिथिलेश कुमार। जिलाधिकारी श्री यशपाल मीणा के द्वारा वैशाली के राजापाकर प्रखंड के नारायणपुर बुजुर्ग पंचायत का भ्रमण कर विद्यालयों की स्थिति, पानी की आपूर्ति, महादलित टोले की स्थिति का जायजा लिया गया और उपस्थित पदाधिकारियों को जरूरी निदेश दिया गया।

Advertisement

सर्वप्रथम जिलाधिकारी कर्णपुरा स्थित श्रीमती रामसुमारी देवी उच्च माध्यमिक विद्यालय गये और विद्यालय परिसर में चारों ओर घुमकर निरीक्षण किये। यहाँ पर कई वर्ग कक्ष बने हुए थे परन्तु उसका प्लास्टर नहीं किया गया था और फर्श नहीं बना था। जिस पर वहाँ के प्रधानाध्यापिका से पूछ-ताछ की गयी और फोन पर जिला शिक्षा पदाधिकारी से बात कर उन्हें जरूरी निर्देश दिया गया। जिलाधिकारी के द्वारा विद्यालय के विकास मद के पैसे से इन वर्ग कक्षों को ठीक करा देने का निर्देश देते हुए मनरेगा के कनीय अभियंता को बुलाकर आज संध्या तक इस पर होने वाले व्यय का इस्टीमेट बनाने को कहा गया।

यहाँ एक तरफ छोटा सा जर्जर भवन था जिसे गिराकर वहाँ पर बच्चों के लिये साईकिल स्टैण्ड बनाने की बात कही गयी। जिलाधिकारी को बताया गया कि इस विद्यालय में 1132 बच्चें नामांकित हैं। इस विद्यालय के पास जमीन का एक बड़ा भू-खण्ड है। जिलाधिकारी ने प्रखंड विकास पदाधिकारी से कहा कि प्रत्येक प्रखंड में एक स्टेडियम निर्माण की योजना है, अगर राजापाकर प्रखंड का प्रस्ताव नहीं गया है तो यही पर स्टेडियम निर्माण का प्रस्ताव कला संस्कृति एवं युवा विभाग को भेजा जाय। इस विद्यालय में वन विभाग के द्वारा काफी संख्या में की गयी वृक्षारोपड़ पर जिलाधिकारी ने प्रशंसा व्यक्त की। जिलाधिकारी यहाँ पर चल रहे उन्नयन क्लास को भी देखे और बच्चों से शिक्षको की उपस्थिति की जानकारी प्राप्त की।

जिलाधिकारी ने कहा कि विद्यालय प्रबंधन समिति का पुनर्गठन किया जाय पूरे परिसर की साफ-साफाई करायी जाय तथा वर्ग कक्ष पूर्ण करायी जाय एवं साईकिल स्टैण्ड बन जाय इस पर ध्यान दिया जाय और जो भी टास्क दिया गया है उसे सितम्बर के अंत तक पूरा करा लिया जाय। अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में पुनः विद्यालय के भ्रमण की बात कही गयी।

विद्यालय से निकलकर जिलाधिकारी जैसे हीं आगे बढ़े वही पास में एक बड़ा तालाब दिखा। उसके बारे में पूछ-ताछ करने पर स्थानीय मुखिया ने बताया कि इसका रकवा 3 एकड़ 20 डिसीमल है। परन्तु बंदोबस्ती को लेकर विवाद हुआ जिस पर कोर्ट में मामला चल रहा है। जिलाधिकारी के द्वारा जिला मत्स्य पदाधिकारी से फोन पर ही इस तालाब की अद्यतन स्थिति की जानकारी मांगी गयी।

जिलाधिकारी यहाँ से होते हुए राजकीयकृत उत्क्रमित मध्य विद्यालय रामपुरानी गये। यहाँ परिसर में अतिक्रमण पाया गया जिसे आज ही मापी कराकर हराने का निर्देश दिया गया। कर्मचारी और राजस्व अधिकारी को बुलाकर यह टास्क दिया गया। जिलाधिकारी के द्वारा विद्यालय की चाहर दिवारी कराने और वृक्षारोपड़ कराने का निदेश दिया गया।

आगे माहदलित टोले से कुछ दूरी पर बने पानी आपूर्ति की टंकी को देखा गया। टंकी की ऊँचाई कुछ कम पायी गयी। स्थानीय लोगों से पुछने पर बताया गया कि इस टंकी से 250 से अधिक घर जुड़े हैं परन्तु दूर के घरों तक पानी नहीं पहुँच पाता है। इस पर टंकी की ऊँचाई बढ़ाने तथा एक अतिरिक्त टंकी लगाने का निदेश दिया गया। कुछ लोगों ने टोले में जाने वाली रास्ता को दिखाया और कहा कि इसे थोड़ा और चौड़ा करा दिया जाय तो अच्छा रहता। इस पर प्रखंड विकास पदाधिकारी को भू-स्वामियों से सहमति के आधार पर रास्ता निकालने का निदेश दिया गया।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here