बच्चों की मेंटल हेल्थ पर इस चीज से पड़ता है असर, ऐसे होता है बचाव

author
2 minutes, 27 seconds Read

<p style=”text-align: justify;”>बच्चों की मेंटल हेल्थ का ध्यान रखना आज के समय में बहुत जरूरी हो गया है. बच्चों की मानसिक स्थिति पर उनके आसपास के माहौल का गहरा असर पड़ता है. पढ़ाई का प्रेशर, दोस्तों का दबाव, और घर का माहौल – ये सब मिलकर बच्चों की मेंटल हेल्थ पर असर डालते हैं. अगर हम सही समय पर ध्यान दें और कुछ आसान कदम उठाएं, तो हम बच्चों की मेंटल हेल्थ को बेहतर बना सकते हैं. आइए जानते हैं, कैसे और क्या करें बच्चों की मेंटल हेल्थ को मजबूत बनाने के लिए.&nbsp;</p>
<p style=”text-align: justify;”><strong>पढ़ाई का प्रेशर<br /></strong>बच्चों पर पढ़ाई का बहुत प्रेशर होता है. माता-पिता की उम्मीदें, स्कूल की मांगें और समाज का दबाव – यह सब मिलकर बच्चों पर मानसिक दबाव डालते हैं. इससे बचने के लिए बच्चों पर पढ़ाई का अधिक प्रेशर न डालें. उनकी क्षमताओं को समझें और उन्हें समय-समय पर आराम करने का मौका दें. पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद और दूसरे एक्टिविटी को भी समय दें. इससे बच्चों को मानसिक और शारीरिक आराम मिलेगा और वे बेहतर तरीके से पढ़ाई कर सकेंगे.&nbsp;</p>
<p style=”text-align: justify;”><strong> पारिवारिक माहौल<br /></strong>घर का माहौल भी बच्चों की मानसिक स्थिति पर गहरा असर डालता है. अगर घर में झगड़े या तनाव होते हैं, तो इसका असर बच्चों पर पड़ता है. इसलिए घर में शांति और प्यार का माहौल बनाए रखें. बच्चों के सामने झगड़ा करने से बचें और उन्हें सेफ और प्यार भरा माहौल दें. परिवार के साथ अच्छा समय बिताएं और बच्चों को अपनी भावनाएं व्यक्त करने का मौका दें. इससे बच्चों की मेंटल हेल्थ अच्छी रहेगी और वे खुश रहेंगे.&nbsp;</p>
<p style=”text-align: justify;”><strong>सोशल मीडिया का प्रभाव<br /></strong><span style=”font-family: -apple-system, BlinkMacSystemFont, ‘Segoe UI’, Roboto, Oxygen, Ubuntu, Cantarell, ‘Open Sans’, ‘Helvetica Neue’, sans-serif;”>बच्चों पर दोस्तों और समाज का दबाव भी पड़ता है. सोशल मीडिया के कारण यह दबाव और बढ़ जाता है. इसे कम करने के लिए सबसे पहले बच्चों से खुलकर बात करें और उनकी समस्याओं को समझें. उन्हें सिखाएं कि वे दूसरों से अपनी तुलना न करें और खुद को जैसे हैं, वैसे ही स्वीकारें. सोशल मीडिया के उपयोग को सीमित करें और बच्चों के साथ ज्यादा समय बिताएं. इससे बच्चों का तनाव कम होगा और वे खुश रहेंगे.&nbsp;</span></p>
<div class=”flex-1 overflow-hidden” style=”text-align: justify;”>
<div class=”h-full”>
<div class=”react-scroll-to-bottom–css-ljbhn-79elbk h-full”>
<div class=”react-scroll-to-bottom–css-ljbhn-1n7m0yu”>
<div class=”flex flex-col text-sm md:pb-9″>
<div class=”w-full text-token-text-primary” dir=”auto” data-testid=”conversation-turn-23″ data-scroll-anchor=”true”>
<div class=”py-2 juice:py-[18px] px-3 text-base md:px-4 m-auto md:px-5 lg:px-1 xl:px-5″>
<div class=”mx-auto flex flex-1 gap-3 text-base juice:gap-4 juice:md:gap-5 juice:lg:gap-6 md:max-w-3xl lg:max-w-[40rem] xl:max-w-[48rem]”>
<div class=”group/conversation-turn relative flex w-full min-w-0 flex-col agent-turn”>
<div class=”flex-col gap-1 md:gap-3″>
<div class=”mt-1 flex gap-3 empty:hidden juice:-ml-3″>
<div class=”items-center justify-start rounded-xl p-1 flex”>
<div class=”flex items-center”><strong>बच्चों का मेंटल हेल्थ का जानें कैसे रखें ध्यान&nbsp;</strong></div>
</div>
</div>
<ul>
<li class=”pr-2 lg:pr-0″><span style=”font-family: -apple-system, BlinkMacSystemFont, ‘Segoe UI’, Roboto, Oxygen, Ubuntu, Cantarell, ‘Open Sans’, ‘Helvetica Neue’, sans-serif;”>समय पर सोना और जागना : बच्चों को समय पर सोने और जागने की आदत डालें. इससे उनकी दिनचर्या नियमित होगी और वे मानसिक रूप से ताजगी महसूस करेंगे. </span></li>
<li class=”pr-2 lg:pr-0″>हेल्दी खाना और एक्सरसाइज : बच्चों को हेल्दी खाना खाने और रोज एक्सरसाइज करने के लिए प्रेरित करें. पौष्टिक आहार और शारीरिक गतिविधियों से उनका शरीर और मन दोनों हेल्दी रहेंगे.</li>
<li class=”pr-2 lg:pr-0″>मेडिटेशन और रिलेक्सेशन : बच्चों को मेडिटेशन और रिलेक्सेशन तकनीकें सिखाएं. इससे वे तनावमुक्त रहेंगे और उनका मानसिक संतुलन बेहतर होगा.&nbsp;</li>
</ul>
<p><strong>Disclaimer: खबर में दी गई कुछ जानकारी मीडिया रिपोर्ट्स पर आधारित है. आप किसी भी सुझाव को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें.</strong></p>
<p><strong>यह भी पढ़ें:&nbsp;<br /></strong><strong><a title=”Myths Vs Facts: क्या एक मरीज से दूसरे में फैल सकता है कैंसर, डिओडरेंट लगाने से भी हो जाती है ये बीमारी? जान लें क्या है असली सच” href=”https://www.abplive.com/lifestyle/health/health-tips-cancer-myths-and-facts-causes-symptoms-treatment-in-hindi-2734799/amp” target=”_self”>Myths Vs Facts: क्या एक मरीज से दूसरे में फैल सकता है कैंसर, डिओडरेंट लगाने से भी हो जाती है ये बीमारी? जान लें क्या है असली सच</a></strong></p>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
<div class=”w-full md:pt-0 dark:border-white/20 md:border-transparent md:dark:border-transparent md:w-[calc(100%-.5rem)] juice:w-full” style=”text-align: justify;”>
<div class=”px-3 text-base md:px-4 m-auto md:px-5 lg:px-1 xl:px-5″>
<div class=”mx-auto flex flex-1 gap-3 text-base juice:gap-4 juice:md:gap-5 juice:lg:gap-6 md:max-w-3xl lg:max-w-[40rem] xl:max-w-[48rem]”>&nbsp;</div>
</div>
</div>
<p style=”text-align: justify;”>&nbsp;</p>

Spread the love

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page